Ishq Anokhari Peer - Pathanay Khan




इशक अनोखड़ी पीड़ ।सौ सौ सूल अन्दर दे ।
नैन वहायम नीर ।अल्लड़े ज़खम जिगर दे ।

बिरहों बखेड़ा सख़त आवैड़ा ।खवेश कबीला लाविम झेड़ा ।
मारग मा प्यु वीर ।दुसमन लोक शहर दे ।

तांग अवल्लड़ी सांग कलल्लड़ी ।जिन्दड़ी जलड़ी दिल्लड़ी गलड़ी ।
तन मन दे विच्च तीर ।मारे यार हुनर दे ।

ग़मजे सेहरी रमज़ां वैरी ।अक्खियां जादू दीद लुटेरी ।
जुलमीं ज़ुलफ़ ज़ंजीर ।पेची पेच कहर दे ।

पीत पुन्नल दी सिक पल पल दी ।मारूथल दी रीत अज़ल दी ।
डुक्ख लाविन तड़भेड़ ।जो सरदे सो करदे ।

तुल नेहाली डेन डिखाली ।सबर आराम दी विसरिअम चाली ।
लूं लूं लक्ख लक्ख चीर ।कारी तेग़ तबर दे ।

यार फ़रीद न पायम फेरा ।लाया दरदां दिल विच्च देरा ।
सर ग्युम सीस सरीर ।नैसां दाग़ कबर दे ।

0 Comments