Night of Love – वस्ल की रात – Rare Jagjit Ghazal Translation


वस्ल की रात तो राहत से बसर होने दो

शाम ही से है ये धमकी के सहर होने दो
Give me some peace on this night of love 
Since the evening you are warning of the morning

जिसने ये दर्द दिया है वो दवा भी देगा
लादवा है जो मेरा दर्द-ए-जिगर होने दो

Whoever has given this pain, will give medicine too
Its incurable, let this pain remain in the heart
ज़िक्र रुख़सत का अभी से न करो बैठो भी
जान-ए-मन रात गुज़रने दो सहर होने दो

Don’t talk about leaving, sit down
Let the night pass, let morning come
वस्ल-ए-दुश्मन की ख़बर मुझसे अभी कुछ ना कहो
ठहरो-ठहरो मुझे अपनी तो ख़बर होने दो

Don’t tell me about the enemy of love
Wait wait, let me understand myself first

Leave a message