बे-इरादा नज़र उनसे टकरा गई

बे-इरादा नज़र उनसे टकरा गई 
ज़िन्दगी में अचानक बहार आ गई 
My vision had an accident with my love
Life suddenly became beautiful
रूख़ से पर्दा उठा चाँद शर्मा गया 
ज़ुल्फ़ बिखरी तो काली घटा छा गई 
वो जो हँसते हुए बज़्म में आ गए
मैं ये समझा क़यामत क़रीब आ गई
My lover came to the assembly smiling
I thought the end of the world had come
उनकी ज़ुल्फ़ों में पड़ते हुए ख़म देखकर 
शेख़ जी की तबीयत भी ललचा गई
मौत क्या चीज़ है मैं तुझको समझाऊँ क्या 
इक मुसाफ़िर था रस्ते में नींद आ गई
How should I explain death to you
A traveller fell asleep on the way
दिल में पहले सी ऐ ‘दिल’ वो धड़कन नहीं 
मोहब्बत में शायद कमी आ गई
O Dil, the heart doesn’t have its beat
There must be some fault in love
-दिल लखनवी 

Leave a message